Wednesday, May 15, 2024
HomeBeauty tipsReasons of Cavity and Tartar - दाँतों की समस्या - कारण और...

Reasons of Cavity and Tartar – दाँतों की समस्या – कारण और उपाय

Reasons of Cavity and Tartar

प्लाक और टार्टर के बारे में समझते हैं।   यह क्या है?   यह कैसे बनता है?   इसके कारण क्या समस्या होती है?   हम इसे कैसे दूर कर सकते हैं?   क्योंकि यह बहुत आम है।   आमतौर पर हम कहते हैं कि मेरे दांतों में प्लाक बन रहा है।

प्लाक और टार्टर में क्या अंतर है?

प्लाक और टार्टर क्या है, इसमें क्या अंतर है?   तो हम इसे आज समझेंगे।   हम इस बारे में भी बात करेंगे।    कि यह कैसे साफ होता है?   पहले प्लाक को समझते हैं।    फिर हम टारटर पर आएंगे।

प्लाक क्या है?

तो प्लाक क्या है?    जैसा कि हम कहते हैं, मेरे दांतों में पट्टिका या प्लाक बन रही है।   यह एक चिपचिपी परत है।   जो कुछ खाने या पीने के बाद दिखाई दे सकती है।   जैसे चाय, कॉफी आदि..यह पीने के बाद दिखाई दे सकती है।   तो यह एक चिपचिपी परत है।   आप इसे कैसे समझ सकते हैं?   कुछ खाने या पीने के बाद आपको दांतों पर एक परत महसूस होगी।   जिसे आप जीभ से महसूस कर सकते हैं।   हम इसे पट्टिका कहते हैं।   यह पट्टिका कैसे बनती है?   लार और छोटे खाद्य कण जिन्हें साफ नहीं किया गया हो।   बॉट के संयोजन से यह एक परत बनाता है। , हम इसे पट्टिका या प्लाक कहते हैं।   और प्लाक हमारे लिए नहीं बैक्टीरिया के लिए बहुत अच्छा है।   इसमें बैक्ट्रिया बढ़ता है और समस्या पैदा करता है।

Reasons of Cavity and Tartar - दाँतों की समस्या - कारण और उपाय

प्लाक को कैसे हटाएँ

ब्रशिंग और फ्लॉसिंग द्वारा प्लाक को आसानी से हटाया जा सकता है।   यह आमतौर पर सलाह दी जाती है कि जब भी हम कुछ खाये तब ही ब्रश करें।  लेकिन यह संभव नहीं है।    और पूरे दिन ब्रश करना अच्छा नहीं है।    एक या दो बार ब्रश करना पर्याप्त है।

लेकिन हमें कुछ भी खाने के बाद गरारे करना है।    दांतों पर उँगलियाँ घुमा कर दांतों को साफ करना है।   इससे कुछ हद तक प्लाक के बनने को रोका जा सकता है।   इससे मुँह की स्वच्छता बनी रहेगी।

Reasons of Cavity and Tartar

टार्टर क्या है?

आइए बात करते हैं टार्टर के बारे में।   क्या यह कुछ अलग है?   आम तौर पर जब प्लाक सख्त हो जाता है।    तो इसे हटाने के बाद हम इसे दंत टार्टर कहते हैं।   मेडिकल टर्म में हम इसे डेंटल क्लकुलस कहते हैं।   उसका रूप कैसा है?   लार में खनिज होते हैं।   जब प्लाक को अधिक समय तक साफ नहीं किया जाता तो यह टार्टर का रूप ले लेता है।   यदि प्लाक अधिक समय तक मुंह में रहता है।   और हमने इसे ठीक से साफ नहीं किया।   हम सोचते हैं की कि हमने ब्रश करने से दांतों को पूरी तरह से साफ कर दिया है।   लेकिन अगर हमने दांतों के बीच और गहराई से सफाई नहीं की।   तो लार खनिज पथरी में बदल जाता है।    यदि यहाँ लम्बे समय तक मुँह में मौजूद रहे तो इसे साफ करना कठिन हो जाता है।   हम इसे कैलकुलस या टार्टर कहते हैं।   यह भूरे या पीले रंग का दिखाई देता है।   यह दांतों के बीच में, मसूड़ों में और मसूड़ों में भी गहराई तक आक्रमण करते हैं।   इसे ब्रश से नहीं हटाया जा सकता।   क्योंकि यह कठोर होता है।

Reasons of Cavity and Tartar

टार्टर को कैसे हटाएँ 

प्रारंभ में इसे ब्रश द्वारा हटाया जा सकता है।   इसके लिए आपको हार्ड ब्रश का इस्तेमाल करना होगा।   प्लाक के लिए आप सॉफ्ट ब्रश इस्तेमाल कर सकते हैं।   लेकिन टार्टर के लिए आपको मध्यम से सख्त ब्रश का इस्तेमाल करना होगा।   लेकिन रोजाना कठोर ब्रश का प्रयोग न करें।   और बहुत अधिक दबाव न डालें।   हफ्ते में एक, दो या तीन बार आप हार्ड ब्रश का इस्तेमाल कर सकते हैं।    ताकि पथरी निकल जाए।

एक आम शिकायत यहाँ है कि हमने दांतों को ठीक से साफ किया फिर भी पथरी बन गई।   उचित सफाई के बाद भी टैटार जमा हो जाता है।

उचित और नियमित सफाई है जरुरी 

टार्टर को ब्रश से नहीं हटाया जा सकता।   नियमित रूप से कठोर ब्रश करने से बचें, इससे अन्य समस्या शुरू हो जाएगी।   तो इसके लिए आपको मशीन से स्केलिंग करनी होगी।   साल में दो बार या कम से कम एक बार।   इसके द्वारा कैलकुलस डिपोजिशन को हटा दिया जाता है।

कैलकुलस क्या समस्याएं पैदा करता है?  

कैलकुलस से होने वाली मुख्य समस्या है मसूड़े की सूजन।  इसके कारण मसूढ़ों में सूजन और मसूढ़ों से रक्तस्राव होता है।   यह मसूड़ों से खून बहने का एक कारण है।   यह बढ़ जाता है तो यह सूजन मसूड़ों के सड़ने का कारण बनता है।   इससे कैविटी हो जाती है बैक्टीरिया बढ़ते हैं।   और दांतों का डिमिनरलाइजेशन शुरू हो जाता है।   तो मसूड़ों की बीमारी और कैविटी इसकी वजह से होती है।   फिर अगली सांसों की बदबू बी समस्या है।   टैटार से दुर्गंध की समस्या होती है।   .बैक्टीरिया और भोजन का मलबा सांसों की बदबू का कारण बनता है।

तो इन सभी समस्याओं से बचने के लिए जरुरी है की दांतो की नियमित सफाई की जाये।  ताकि आप मुस्कुराते रहें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here


Most Popular

Recent Comments