Wednesday, May 15, 2024
HomeMental Healthमानसिक रोग का घरेलू उपचार - क्यों होते है मानसिक रोग

मानसिक रोग का घरेलू उपचार – क्यों होते है मानसिक रोग

मानसिक रोग का घरेलू उपचार जानने के लिए यहाँ जानना जरुरी है की क्यों होते है मानसिक रोग आइये पहले इसके कारण को जान लेते हैं।

क्यों होते है मानसिक रोग?

चिंता एक बुनियादी भावना या भावना है। यह आपके व्यवहार करने या दूसरों से बात करने के तरीके को भी प्रभावित करता है। आइए चिंता के लक्षणों के बारे में जानें की आखिर क्यों होते है मानसिक रोग?

जब आप बहुत चिंतित महसूस करते हैं। तो शारीरिक लक्षण – जैसे धड़कन (तेज धड़कन), पसीना आना, हाथ-पैरों में झटके महसूस होना, मुंह सूखना अनुभव होता है। अगर चिंता बनी रहती है तो पेट दर्द जैसी पेट की समस्या विकसित हो जाती है। इससे हृदय संबंधी समस्याएं उत्पन्न होती हैं चूंकि, तनाव और चिंता इसके लिए जिम्मेदार हैं।

यह भी पढ़ें – डिप्रेशन से कैसे निपटें

कुछ लोग कहते हैं की मानसिक रोग का अर्थ स्पष्ट कीजिए। मानसिक रोग लक्षण क्या हैं?

मूल रूप से एक चिंता विकार है जिसमें दिमाग गलत सिग्नल देने लगता है। इससे कुछ लोग स्वच्छता के प्रति अत्यधिक जागरूक हो जाते हैं। और बार-बार हाथ धोते रहते हैं। जैसे अगर वे अपने सिर को छूते हैं, तो उन्हें अपने हाथों में बैक्टीरिया जैसा महसूस होता है। फिर वे फिर से हाथ धोते हैं।  और फिर चाहे वे किसी चीज को छूते हैं या किसी शरीर से हाथ मिलाते हैं। फिर भी हाथ धोएंगे।

ताला का जुनून – कुछ को लगता है कि उनका ताला खुला है। वे बार-बार ताला लगाते हैं। भले ही उनके पास ताला हो लेकिन वे बार-बार ताला की जांच करते रहेंगे। कभी-कभी तो वे रात में भी उठ जाते हैं। और ताले को चैक करते रहते हैं। इसी तरह दरवाज़ा बंद रखने का जुनून। जैसे उन्हें लगता है कि दरवाजा खुला है। भले ही उन्होंने दरवाजा बंद कर दिया हो। लेकिन वे बार-बार जांचते रहेंगे कि दरवाजा बंद है या नहीं। ये सब या इसी प्रकार से मानसिक रोग लक्षण होते हैं।

चिंता के कारण क्या हैं?

यह तब पैदा होता है जब आप कुछ छोटी-छोटी बातों पर ज्यादा सोचने लगते हैं। और बहुत ज्यादा चिंता करने लगते हैं। जब चिंता बढ़ जाती है, तो कार्य प्रदर्शन भी प्रभावित होता है। और आप कुशलता से काम नहीं कर पाते हैं। इसका मतलब है कि आपकी कार्य उत्पादकता कम हो जाती है। जिससे खराब परिणाम मिलते हैं।

तो, पहले स्वीकार करें कि आपको मानसिक रोग लक्षण की समस्या है। फिर उसके बाद मानसिक रोग का घरेलू उपचार पर आएं।

चिंता को कैसे दूर करें? मानसिक रोग का अर्थ स्पष्ट कीजिए

सबसे पहले आपको इतना चिंतित करने के पीछे के कारण या स्थिति पर चर्चा करने की आवश्यकता है। आपको इन कारणों को पहचानने की जरूरत है। इसके बाद आपको इसे बदलने या दूर करने के तरीके के बारे में सोचने की जरूरत है। तो, आप चिंतित महसूस नहीं करते।

मानसिक रोग का घरेलू उपचार

मानसिक रोग का घरेलू उपचार |  क्यों होते है मानसिक रोग | mansik rog ka gharelu upchar | kyon hote hain mansik rog

1. सांस लेने के तरीके में बदलाव करें

इसके लिए आपको अपने सांस लेने के तरीके को बदलने की जरूरत है। जब आप चिंतित महसूस करें, तो 2-3 मिनट के लिए गहरी सांस लें। बस श्वास लें और छोड़ें। यह शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाता है। ऑक्सीजन में वृद्धि से आप आराम महसूस करेंगे और मांसपेशियों को आराम मिलेगा।

2. भोजन करने का सही तरीका

भोजन को थोड़ा-थोड़ा करके चबाएं। क्योंकि अगर आप अपना खाना जल्दी में खाते हैं। और ठीक से चबाते नहीं हैं तो यह समस्या पैदा करता है एक बार में ज्यादा न खाएं, बल्कि 2-3 घंटे के अंतराल में थोड़ा-थोड़ा भोजन करें। आपको हर ढाई तीन घंटे में मुट्ठी भर खाना खाना चाहिए और वह भी 4-5 बार

3. ज्यादा पानी पियें

आपको ज्यादा से ज्यादा पानी पीना है।  इससे टॉक्सिन्स निकल जाते हैं। चिंतित महसूस करते हैं तो आपको अनुलोम-विलोम प्राणायाम अवश्य करना चाहिए। जब आप अनुलोम-विलोम प्राणायाम करेंगे तो आपके दिमाग को ऊर्जा मिलेगी। साथ ही इसे ऑक्सीजन भी मिलती है। और इससे इस समस्या में सबसे ज्यादा राहत मिलती है।  

मूल रूप से आपको वह सब करना है जो आपको आराम देता है। अपनी पसंद का संगीत सुनें, अगर आपको हल्का संगीत पसंद है तो इसे सुनें। बगीचे में जाओ, जैसे ही तुम जागोगे और नंगे पैर घास पर चलोगे, तुम्हें इससे अधिकतम राहत मिलेगी। इन सभी एंड्रोफिल रिलीज के साथ तैराकी, एरोबिक्स, जॉगिंग करें।

मानसिक रोग का घरेलू उपचार

फेसबुक पेज पर जाएँ

एंड्रोफिल्स क्या है?

यह फीलगुड हार्मोनहै। और जब आपका शरीर फीलगुड हार्मोन रिलीज करेगा तब आपको अच्छा महसूस होने लगेगा।  और धीरे-धीरे आपका मन समझ जाएगा कि आपको परेशानी है। कि हर कोई गंदा है और मैं साफ हूँ ऐसा नहीं है बल्कि मुझे एक समस्या है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको यह स्वीकार करना होगा कि आपको यह समस्या है। क्योंकि दिमाग गलत संकेत दे रहा है और लोग इसे समस्या के रूप में स्वीकार नहीं करते हैं उन्हें लगता है कि वे सही हैं और बाकी दुनिया गलत है।  मानसिक रोग का घरेलू उपचार

4. बादाम, अखरोट और फ्लेक्स सीड्स का सेवन

4 बादाम, 4 अखरोट और 2 चम्मच फ्लेक्स सीड्स लें।

इन सबको ग्राइंडर में डाल कर पीस लीजिये, ये पाउडर जैसा हो जायेगा। इसमें 1 चम्मच चूर्ण मिलाकर सुबह खाली पेट इस दूध का सेवन करें।

अगर आपको मधुमेह नहीं है तो आप इस दूध में 2 चम्मच शहद मिला सकते हैं।  और आप देखेंगे कि कुछ ही दिनों में ओसीडी की समस्या दूर हो जाएगी

5. शंखपुष्पी का प्रयोग करें – मानसिक रोग का घरेलू उपचार

एक और कारगर उपाय है। शंखपुष्पी जिसे जोश फूल के नाम से जाना जाता है। अगर आपको यह ताजा मिलता है तो आप इसे उबाल कर ऐसे ही सेवन कर सकते हैं। लेकिन अगर आपको नहीं मिलती है तो आजकल इसकी चाशनी मिल जाती है।

1 चम्मच इसकी चाशनी ।

आधा चम्मच अदरक का रस ।

1/2 चम्मच मुलेठी पाउडर मिला लें।

उन सभी को मिलाएं और आपको इसका सेवन दिन में दो बार करना है। आप देखेंगे कि आपको समस्या में आराम मिलने लगेगा।

6. गर्म पानी से नहाएं

इसके साथ ही गर्म पानी से नहाएं और मसाज करवाएं इससे आपको राहत मिलेगी। गर्म पानी से नहाकर बादाम के तेल से मालिश करें, इससे भी काफी आराम मिलेगा

7. 7-8 घंटे की नींद लें

कम से कम 7-8 घंटे सोना जरूरी है। निकोटिन का प्रयोग न करें। निकोटिन के इस्तेमाल से आपकी समस्या बढ़ेगी। कैफीन के सेवन को पूरी तरह से ना करें।  यह केवल ओसीडी की समस्या को बढ़ाता है। कैफीन कई प्रकार के ऊर्जा पेय में उपलब्ध है और यह कॉफी में भी उपलब्ध है

कॉफी के शौकीन हैं तो कॉफी से परहेज करें।

मानसिक रोग का घरेलू उपचार

ध्यान दें कि एनर्जी ड्रिंक्स में कैफीन होता है, आपको इसका सेवन नहीं करना है

8. नशेके सेवन से परहेज करें

अगर आप मानसिक रोग का घरेलू उपचार खुद करना चाहते है। तो नशे इस्तेमाल अगर बंद नहीं कर सकते तो कम करना होगा। मरीज सोचते हैं कि नशा करने से उनकी समस्या में मदद मिलती है। लेकिन यह वास्तव में काम नहीं करता है। नशे से आपका रक्तचाप कम हो जाता है। थोड़े समय के लिए आपका मन शांत हो जाता है। और आपको लगता है कि आप राहत महसूस कर रहे हैं

यह भी पढ़ें – एंग्जाइटी डिसऑर्डर के 2 लक्षण

9. फोलिक एसिड अवश्य लें

ओसीडी के दौरान, शरीर से लड़ने के लिए फोलिक एसिड आवश्यक है। फोलिक एसिड  के लिए आप चुकंदर खरीद सकते हैं। पालक, हरीपत्तेदारस ब्जियां, धनिया का भी सेवन करें आपके शरीर को प्राकृतिक रूप में फोलिक एसिड मिलेगा। और इससे भी आपको ओसीडी में आराम मिलेगा।

मानसिक रोग का घरेलू उपचार | क्यों होते है मानसिक रोग | मानसिक रोग लक्षण | मानसिक रोग का अर्थ स्पष्ट कीजिए

10. अगर बहुत नींद आती है – मानसिक रोग का घरेलू उपचार

अब बहुत से लोगों को यह समस्या है कि वे सुस्ती महसूस करते हैं। उन्हें बहुत नींद आती है, यहाँ तक कि दिन में भी बहुत नींद आती है। यह भी एक मानसिक रोग लक्षण है।

ऐसे लोगों को एक काम करना चाहिए।

2 लौंग लें।

1 पान का पत्ता लें।

2 कलियों के साथ चबा लें

और चबाने के बाद लार उत्पन्न होती है, उसे निगल लें।

इससे सुस्ती और नींद आने की समस्या दूर हो जाएगी। इसके साथ ही जिन लोगों को नींद आने के कारण सिर दर्द की शिकायत रहती है उस स्थिति में यह प्रक्रिया सहायक होगी।

11. अगरआपको लौंग और पान नहीं मिल रहा?

चाय की पत्ती लें।

इस चाय की पत्ती को गर्म पानी में डाल दें ।

2 मिनट के लिए छोड़ दें।

उस पानी को छान लें

और उस  पानी में 1 नीबू निचोड़ दीजिये।

नींबू निचोड़ने के बाद अगर आप इस पानी का सेवन करेंगे। तो अगर आपको सुस्ती और नींद दूर हो जाएगी।

12. नींद न आने की शिकायत हो तो क्या करें?

50 ग्राम खसखस ​​लें।

50 ग्राम तरबूज के बीज।  

दोनों को मिला लीजिए।

और इसका पाउडर बना लीजिए।

इस चूर्ण को 3 चम्मच सुबह और 3 चम्मच शाम को सोने से पहले सेवन करें। आप देखेंगे कि जागने की समस्या अब आपको प्रभावित नहीं कर रही है

13. उलटी गिनती शुरू करें – मानसिक रोग का घरेलू उपचार

कुछ लोगों को मानसिक रोग लक्षण में तनाव की समस्या होती है। अगर आप तनाव में हैं तो इसे करें और आपको तनाव में राहत मिलेगी।

पीछे से गिनती शुरू करें जैसे 100 से 01

मतलब 100,99,99,  100,99,98,…… ऐसे ही आपको गिनती शुरू करनी होगी।

100,99,98,91 ऐसे ही बोलोगे तो 01 को कब पहुंचोगे।

तो आप देखेंगे कि आपकी तनाव की समस्या दूर हो रही है

14. कच्चा प्याज और लहसुन

खाने के साथ कच्चा प्याज खाएं। और खाना खाने के बाद लहसुन की 2 कलियां चबाएं। बाद में लगभग १/४ कप दूध का सेवन करना चाहिए

मानसिक रोग का घरेलू उपचार

15. सरसों का तेल

सोने से पहले रुई को सरसों के तेल में भिगोकर नाभि पर लगाएं। या एक और उपाय कर सकते हैं-

सरसों का तेल लें और इसे गुनगुना होने दें।

इसकी 4 बूँद बायें और दाहिने कान में डालें और रुई से ढक दें

सोने से पहले इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार करें।

आप देखेंगे कि आपको तनाव में राहत मिल रही है।

16. सकारात्मक सोच

अगर आपकी सोच सकारात्मक है। तब आपको तनाव नहीं होगा। किसी भी स्थिति में शांत रहें और खुद पर नियंत्रण रखें सकारात्मक सोच से आप तनाव मुक्त हो सकते हैं।

17. व्यावहारिक रवैया

कभी-कभी कोई चीज हद पार कर जाती है और आप तनाव में आ जाते हैं। ऐसी स्थिति में कोई तनाव न लें। अगर ऐसा कुछ होता है तो 5 मिनट आराम करें। खुली हवा में टहलने जाएं। या किसी और काम में लग जाना।

अपनी भावनाओं को साझा करने का प्रयास करें। आप परिवार, दोस्तों या बॉस के साथ अपनी राय व्यक्त कर सकते हैं। आपका तनाव कम हो जाएगा। आपको अपनी समस्याओं का समाधान मिल सकता है। इसलिए अपने विचार साझा करने का प्रयास करें।

18. स्वस्थआहार खाएं – मानसिक रोग का घरेलू उपचार

अस्वास्थ्यकर भोजन तनाव का एक कारण हो सकता है। जंक फूड, फास्ट फूड और कोला से दूर रहने की कोशिश करें। अपने आहार में फल और सब्जियां शामिल करें।

19. योग करें या व्यायाम करें

तनाव से राहत पाने में योग बहुत मदद करता है।  योग करने की कोशिश करें और सुबह व्यायाम करें। हरी घास पर चलना बहुत मददगार होगा। आपको जो अच्छा लगे वही करें और उसी बात को ध्यान में रखें

20 मानसिक रोग लक्षण में ध्यान (meditation) करें।

हो सके तो रोजाना ध्यान  (meditation) करें। ध्यान (meditation)  एक बहुत ही मजबूत माध्यम है जो तनाव को दूर रखता है ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here


Most Popular

Recent Comments